किसानों की अतिरिक्त आय के लिए एक नई योजना शुरू की जाएगी जिसके अन्तर्गत एक लाख रुपये तक की कर सकेंगे कमाई

किसानों की अतिरिक्त आय के लिए एक नई योजना – केंद्र सरकार जल्द ही किसानों के लिए एक नई योजना शुरू करेगी। इसके तहत किसान खाली पड़ी जमीन पर सोलर पैनल लगाकर पैसा कमा सकते हैं। सोलर पैनल से किसान बिजली उत्पादन का व्यवसाय कर सकते हैं। इससे किसान हर साल 1 लाख रुपये तक कमा सकेंगे। एक सवाल के जवाब में यह जानकारी केंद्रीय मंत्री , नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री (एमएनआरई) आर के सिंह ने दी। योजना के अनुसार, किसान सोलर पैनल लगाकर दो मेगावाट तक की ऊर्जा पैदा कर सकते हैं। इस बिजली को पैदा करने के लिए सरकार खरीदेगी। योजना की घोषणा अगले 15 से 20 दिनों में की जाएगी।

योजना से जुड़ी खास बातें …

1. किसान किराए पर जमीन भी दे सकते हैं

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार ने यह प्रावधान किया है कि किसान अपनी जमीन पर सौर पैनल लगाकर बिजली का उत्पादन कर सकते हैं या वे बिजली पैदा करने के उद्देश्य से किराए पर भी कमा सकते हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत वर्तमान में दुनिया का सबसे बड़ा नवीकरणीय ऊर्जा उत्पादक देश है और हमने 1.75,000 मेगावाट की नवीकरणीय ऊर्जा पैदा करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। उन्होंने कहा कि हम 2022 तक इस लक्ष्य तक पहुंच जाएंगे।

2. 50 हजार सूर्य मित्र 2020 तक तैयार हो जाएंगे –

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उनके मंत्रालय ने 2020 तक 50 हजार सूर्य मित्र तैयार करने के उद्देश्य से सूर्या कौशल विकास कार्यक्रम शुरू किया था। इस कार्यक्रम में सौर पैनलों की स्थापना, रखरखाव और संचालन के लिए नौकरियां पैदा करना शामिल था। कार्यक्रम के अनुसार, पाठ्यक्रम की फीस, आवास की लागत और मूल्यांकन ख़र्च मंत्रालय द्वारा वहन किया जाता है।

3. कमाई का तरीका क्या है ?

एक मेगावाट सौर संयंत्र स्थापित करने के लिए 5 एकड़ भूमि की आवश्यकता होती है। बता दें कि एक मेगावाट सोलर संयंत्र एक वर्ष में लगभग 11 लाख बिजली इकाइयों का उत्पादन करता है। दरअसल, उन्होंने कहा कि अगर किसान के पास एक एकड़ जमीन है, तो 0.20 मेगावाट का प्लांट लगाया जा सकता है। इस प्लांट से सालाना 2.2 लाख यूनिट बिजली पैदा होगी। उन्होंने यह भी कहा कि कुसुम योजना के अनुसार, किसान की जमीन पर सोलर प्लांट लगाने वाले डेवलपर्स किसान को प्रति यूनिट 30 पैसे का भुगतान करेंगे। दरअसल, किसान को 6600 रुपये प्रति माह मिलेंगे। इसका मतलब है कि एक साल में यह लाभ लगभग 80,000 रुपये होगा। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि जमीन का मालिकाना हक किसान के पास रहेगा। इसका मतलब यह है कि अगर किसान चाहे तो वह यहां छोटे पौधों को सोलर संयंत्रों के साथ उगा सकता है।

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!